dde
4f6

नवजात कटड़ो व बछड़ों की देखभाल

      किसी भी पशु फार्म तथा पशुपालकों का अस्तित्व अच्छे तथा स्वच्छ कटड़ों तथा बछड़ों तथा बछड़ों पर निर्भर करता है । पशुपालन व्यवसाय से अधिक आमदनी तभी मिल सकती है जबकि जन्मोपरांत मृत्यु दर घटे तथा कटड़ी व बछड़ी स्वस्थ रहें । नवजात कटड़े व बछड़ां की देखभाल में निम्न बातें महत्वपूर्ण हैं:

जन्म के तुरंत बाद

      पशु के बच्चे की आंखों, नाक व शरीर के अन्य किसी भी भाग पर लगी हुई झिल्ली की परतों व गंदगी को ध्यानपूर्वक साफ कर देना चाहिए । कटड़े व बछड़े के शरीर को साफ कपड़े से पोंछ देना चाहिए । नाभि (सूंड) के शरीर से तीन सै.मी. की दूरी से काटने के लिए कीटाणु रहित कैंची आदि का प्रयोग करें अन्यथा सूंड में सूजन आ जाती है तथा सूंड की नली से कीटाणु शरीर में प्रवेश कर सकते हैं । सूंड को 3-4 दि तक टिंचर आयोडीन लगाएं तथा नाभि का जख्म बिल्कुल ठीक हो जाए तब तक पूर्ण ध्यान रखें कि जानवर उसको चाटें नहीं ।

खीस पिलाना

      जन्म के तुंरत बाद जल्दी से जल्दी (20-30 मिनट से 2-3 घंटे तक) खीस अवश्य पिलानी चाहिए । खीस की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका नवजात कटड़ों व बछड़ों की प्रतिरक्षा शक्ति कायम रखने में है ।

      यदि कटड़ा या बछड़ा सीधा ही थन से खीस पी लेता है तो उसके शरीर को अच्छी तरह पोषण मिलता है लेकिन यदि बछड़ा/कटड़ा कमजोर हो अथवा बीमार हो तो उसे वैसे ही खीस पिला देनी चाहिए । प्रत्येक बछड़े /कटड़े का शरीर के भार के अनुसार प्रति 10 किलो भार पर एक किलो खीस देनी चाहिए।

सींग रहित करना

      पशुओं में सींग होने से व्यक्ति को चोट मारने का डर रहता है तथा आपस में लड़ने में भी पशुओं को सींगों से चोट लग सकती है ।

कृमि रहित करना

      छोटे कटड़ों व बछड़ों में छ: महीने की आयु तक जूणों की बीमारी हो सकती है। इस बीमारी के परजीवी गर्भावस्था में ही माँ से बच्चे के पेट में रक्त संचार द्वारा पहुंच जाते हैं । पैदाइश के कुछ समय पश्चात् मटमैले रंग के बदबूदार दस्त आते हैं व खांसी होती है। यदि ये जूणें अधिक संख्या में हों तो आंत में एक प्रकार का बंध सा पड़ जाता है । पशु जमीन पर गिर जाता है, पैर पटकता है तथा ठीक समय पर देखीााल न की जाए तो मर जाता है । किसान भाई अपने नजदीक के पशु चिकित्सक से मिलकर अपने पशुओं के कृमिरहित करने की दवा अवश्य पिलाएं ताकि कटड़ा व बछड़ा स्वस्थ रहे तथा पशुधन में बढ़ावा मिल सके ।

vkt dh cNM+h dy dh gksus okyh xk;&HkSal gSA tUe ls gh mldh lgh ns[kHkky j[kus ls Hkfo"; esa og vPNh xk; HkSal cu ldrh gSA LoLFk cpiu esa vxj cNfM+;ksa dk otu yxkrkj rsth ls c<+rk gS rks os lgh le; ij xk;”HkSal cu tkrh gSA i’kq ikyd dks ,d xk;”HkSal ls T;knk C;kar”T;kn nw/k feyus ls vf/kd ykHk gksrk gSA C;kagus ds igys] vkf[kjh ds nks eghuksa esa xHkZ cgqr rsth ls c<+rk gSA bUgh nks eghuksa esa xk;”HkSal dh ikpu ’kfDr de gks tkrh gSA ,sls esa laarqfyr i'kq vkgkj f[kykuk cgqr t:jh gSA cPpknkuh esa rsth ls c<+ jgs cNM+s dh lEiw.kZ c<+ksRrjh ds fy, xk;”HkSal dks vk[kjh ds nks eghus vPNh xq.koRrk dk larqfyr vkgkj jkstkuk 1-5 ls 2-0 fdyksxzke f[kykuk pkfg,A ,slk djus ls C;kagus ds le; rFk C;kagus ds ckn dh dbZ vU; dfBukbZ;ka tSls detksjh] tsj vVduk] fiPNk ckgj vkuk ¼Qwy fn[kkuk½ feYd fQoj bR;kfn ls Hkh NqVdkjk fey ldrk gSA

 

C;kgus ds ckn cNM+s & cNfM+;ksa dh ns[kHkky dSls djsa \

Ø             tUe ds ckn cNM+s dk ukd”eqWag lkQ djsaA

Ø             uky dks pkj vaxqyh uhps NksVk /kkxk ;k jLlh ls ckaW/k dj lkQ”lqFkjh dSaph ;k CysM ls dkVsaA ckn esa uky dks vk;ksMhu ds di esa vPNh rjg ls Mqcks ysaA

Ø             cNM+s dks lkQ diM+s ls jxM+ dj lq[kk,aA

Ø             cNM+s dks ekWa ds lkeus j[ksaA ekWa ds yxkrkj pkVus ls cNM+s ds ’kjhj esa [kwu nkSM+us yxrk gSA

Ø             tUe ds ckn ,d ?kaVs ds vanj cNM+s”cNfM+;ksa dks [khal t:j fiykuk pkfg,A [khal fiykus ds fy, tsj fxjus dh jkg ugha ns[ksaA ,d ?kaVs ds vUnj fiyk;k gqvk [khal cNM+ksa dks Hkfo"; esa dbZ [krjukd chekf;ksa ls cpkus dh tkdr nsrk gSA cNM+s”cNfM+;ksa dks muds otu ds 10 izfr’kr [khal jkst fiykuk pkfg, tSls 25 fdyksxzke otu dsa cNM+s dks 2-5 fdyksxzke [khal fiyk,aA

 

cNM+ksa dks nw/k fiykus dh vyx”vyx fof/k;kWa %

Ø               ekWa ds vkWapy ls % xk;”HkSal ds Fku lkQ”lqFkjs gksus pkfg,aA

Ø               lkQ”lqFkjh ckYVh esa ls % xeZ djds BaMk fd;k gqvk nw/kA cNM+k cgqr tYnh ea nw/k ugha ih,] bldk /;ku j[ksa ojuk cngt+eh gks ldrh gSA

Ø               mYVh Vaxh gqbZ nq/k dh cksry ls % cksry dks gj ckj xeZ ikuh ls lkQ dj yhft,A

Ø               nw/k ihuk lekIr djus ij cNM+s dk eWaqg xhys diM+s ls lkQ dj ysaA

Ø               mez ds Ms+<+”nks ekl ds ckn] fnu esa ,d gh ckj nw/k fiyk,aA cNM+s dks /khjs”/khjs xsgWa dh pksdj] nfy;k] filk gqvk eDdk bR;kfn [kus dh vknr MkysaA NksVs cNM+s”cNfM+;ksa ds fy, [kkl rkSj ij cuk;k x;k larqfyr vkgkj ^dkQ LVkVZj* Hkh ns ldrs gSaA

Ø               mez ds nks eghus ckn izR;sd cNM+s”cNM+h dks izfr fnu 10 xzke feujy feDlpj vo’; f[kyk,aA

Ø               6 eghus ls de mez okys cNM+s”cNfM+;ksa dks ;wfj;k fefJr i'kq vkgkj u f[kyk,aA o;Ld xk;”HkSalksa ds fy, cuk;k x;k ,slk vkgkj cNM+s”cNfM+;ksa  dks gkfu igWaqpkrk gSA

Ø               Ms<+ ls nks eghus ds cNM+s”cNfM+;ksa dks isV ds dhM+s ekjus dh nok ¼Dewormer½ nsuk cgqr t:jh gSA ;g nok lky esa nks ckj vo’; nsaA

Ø               Mez ds rhu eghus ckn ^^eqWag idk & [kqj idk** uked chekjh dh jksdFkke ds fy, Vhdk t:j yxok,aA t:jr gksus ij 10 fnu ckn ^^xyk”?kksaVw** chekjh dk Hkh Vhdk yxkuk pkfg,A

le;”le; ij ^^fppM+** dk izfrca/ku djus ls cNM+s”cNfM+;ksa dk otu c<+us esa en~n gksrh gSA fppM+ksa ds ek/;e ls QSyus okyh chekfj;ksa dh jksdFkke gksrh gSA

fppM+ksa ds fy, ?kjsyw nok cukus dh fof/k %

nks yhVj [kV~Vk NkN ¼rhu fnu iqjkuk½ yhft,A blesa nks pEep filh gqbZ gYnh vkSj nks eqV~Bh diM+s /kksus dk fMVtsaZV ikÅMj feyk,aA bl ?kksy dks i'kq ds ’kjhj ij lkQ”lqFkjs diM+s ls yxk,aA lkFk”lkFk ckM+s esa vklikl blh ?kksy dk Lizsa djsaA